Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

का मंदी आ रहल बा : का दुनिया में 2008 जइसन मंदी फेरु आ रहल बा, एकर असर भारत पर का होई?

0 54
सीवान इन्शुरेंस 720 90

मंदी के डर एक बेर फेरु पूरा दुनिया प गहिराह हो गईल बा। पिछला दू साल से कोरोना संकट से जूझत पूरा दुनिया 2022 में रूस आ यूक्रेन का बीच युद्ध शुरू भइला का बाद से गड़बड़ी जइसन हो गइल बा. जबसे एह लड़ाई के शुरुआत भइल बा तबसे एकर असर पूरा दुनिया के अर्थव्यवस्था पर देखल जा रहल बा. एह लड़ाई के चलते पहिलही से कोरोना से लड़त अर्थव्यवस्था के सोझा सप्लाई चेन के संकट भी आईल बा, जवना के असर हर महाद्वीप के अमेरिका, यूरोप अवुरी एशिया के देश प पड़ता। अब बाजार में एक बेर फेरू साल 2008 जईसन मंदी के खतरा बा। दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपति एलान मस्क भी मंदी के ए खतरा से डेरा गईल बाड़े। भारतीय बाजार में भी कारोबार चल रहल बा।

आर्थिक मंदी का होला?

कवनो देश के विकास ओकर अर्थव्यवस्था पर निर्भर करेला. जब अर्थव्यवस्था में लगातार कुछ समय तक (कम से कम तीन क्वार्टर तक) विकास थम जाता है, रोजगार कम हो जाता है, महंगाई बढ़ने लगती है और लोगों की आमदनी अप्रत्याशित रूप से घटने लगती है तो इस स्थिति को ही आर्थिक मंदी का नाम दिया जात बा. जहिया से पूरा दुनिया में कोरोना संकट शुरू भईल बा, तब से अलग-अलग अर्थव्यवस्था के मंदी के चपेट में आवे के खतरा बढ़ गईल बा। रूस आ यूक्रेन का बीच भइल लड़ाई का चलते एह गंभीर समय में आग में ईंधन बढ़ गइल बा. अब बाजार के अधिकांश विशेषज्ञ के मानना ​​शुरू हो गईल बा कि आवे वाला कुछ महीना में पूरा दुनिया में 2008 जईसन मंदी आ सकता।

अमेरिका आ यूरोपीय देशन पर एकर जबरदस्त असर पड़ी

ग्लोबल ब्रोकरेज फर्म नोमुरा होल्डिंग्स भी विश्व बाजारन के मंदी के बारे में चेतवले बिया। नोमुरा के ओर से जारी एगो रिपोर्ट में कहल गईल बा कि अगिला 12 महीना के भीतर दुनिया के अधिकांश अर्थव्यवस्था मंदी से अपना के ना बचा पाई। एह रिपोर्ट के मुताबिक अलग-अलग देश के केंद्रीय बैंक के कड़ा नीति अवुरी आम आदमी के बढ़त जीवन-यापन लागत एक बेर फेरू पूरा दुनिया के 2008 निहन मंदी के ओर धकेल रहल बा। एह रिपोर्ट में कहल गइल बा कि दुनिया के प्रमुख अर्थव्यवस्था जइसे अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया आ कनाडा पर मंदी के खतरा अउरी गहिराह हो गइल बा.

दुनिया भर के केंद्रीय बैंकन के कड़ा नीति हमनी के मंदी का ओर ले जात बा

नोमुरा रिपोर्ट में इहो कहल गइल बा कि महंगाई पर लगाम लगावे खातिर दुनिया भर के केंद्रीय बैंक ब्याज दर बढ़ावत बाड़े. महंगाई पर नियंत्रण के लक्ष्य हासिल करे खातिर ई काम कइल जा रहल बा बाकिर एहसे दुनिया के अर्थव्यवस्था के बकवास हो सकेला. केंद्रीय बैंक के कड़ा नीति के चलते एकर वैश्विक विकास प खराब असर पड़ रहल बा। पूरा दुनिया में नौकरी में कमी आ रहल बा। लोग के आमदनी घट रहल बा। लोग जवन कमा रहल बा उहो महंगाई से प्रभावित हो रहल बा। अयीसना में अर्थव्यवस्था के समग्र विकास के हालत में गड़बड़ी देखाई देता।

मंदी के अलग अलग देशन पर अलग अलग असर पड़ी

नोमुरा के रिपोर्ट के मुताबिक महंगाई के उच्च दर फिलहाल कम होखे वाला नईखे। महंगाई के दबाव अब खाली जिंस बाजार तक सीमित नइखे रहि गइल. अमेरिका में सेवा क्षेत्र आ रोजगार देवे वाला लोग भी एकर शिकार हो रहल बा| अमेरिका में महंगाई दर पिछला चालीस साल के आंकड़ा से अधिका हो गइल बा. नोमुरा रिपोर्ट के मुताबिक मंदी के असर अलग-अलग देश प अलग-अलग हो सकता। ब्रोकिंग फर्म के मानना ​​बा कि साल 2022 के अंतिम तिमाही के बीच यानी अक्टूबर से दिसंबर के बीच अमेरिका समेत दुनिया के बहुत देश मंदी में आ सकतारे। एक बेर मंदी के असर पड़ला का बाद एकर असर छह महीना ले देखल जा सकेला.

अगर रूस के नाराजगी हो जाई त यूरोप परेशान हो जाई

नोमुरा के रिपोर्ट में कहल गइल बा कि पिछला कुछ महीना में जवना तरह से यूरोपीय देश रूस का खिलाफ बयानबाजी करत बाड़े ओहसे एकर प्रतिकूल असर आवे वाला समय में देखल जा सकेला. अगर रूस नाराज हो जाव आ यूरोपीय देशन के गैस सप्लाई बंद कर देव त यूरोपीय देशन के मंदी से केहू ना बचा सकेला. अनुमान के मुताबिक आवे वाला एक से दु साल में यूरोप के अर्थव्यवस्था में एक प्रतिशत तक के गिरावट आ सकता। ब्याज दर बढ़ला से कनाडा, दक्षिण कोरिया आ ऑस्ट्रेलिया जइसन मजबूत देशन पर बुरा असर पड़ सकेला. दक्षिण कोरिया में एह साल अर्थव्यवस्था में 2 से 2.5 फीसदी के कमी आवे के उमेद बा.

भारत अवुरी चीन प मंदी के असर का होई?

नोमुरा के रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के दुगो सबसे बड़ बाजार भारत अवरू चीन के बारे में बात कईल जाए त दुनिया के अर्थव्यवस्था के अनिश्चितता के असर इहाँ भी देखाई दिही। बस राहत के बात बा कि अमेरिका आ यूरोपीय देशन का मुकाबले एह वैश्विक मंदी के असर भारत आ चीन पर कम होखी. नोमुरा के मानना ​​बा कि चीन अपना सरकारी नीतियन से मंदी से निपटे में बहुते हद ले सफल होखी. हालांकि इहो कहल गइल बा कि कोविड का चलते अर्थव्यवस्था पर तनाव पैदा होखी. दूसरा ओर अगर भारत के बात कईल जाए त थोक महंगाई दर 1991 के स्तर (करीब 16 प्रतिशत) तक गिर गईल बा| एहसे चिंता पैदा हो गइल बा. इहाँ रिजर्व बैंक एकही महीना में दु बेर रेपो दर बढ़ा के महंगाई प नियंत्रण करे के रणनीति अपना चुकल बा, लेकिन एकरा से आम जनता के समस्या में कमी नईखे आईल। डॉलर का मुकाबले रुपिया के दाम जारी बा आ ऊ अपना ऐतिहासिक निचला स्तर पर कारोबार करत बा. लेकिन, एकरा बावजूद नोमुरा के मानना ​​बा कि भारत ए मंदी से निपटे में सक्षम होई। एकर कारण इ बा कि इहाँ के घरेलू बाजार से अर्थव्यवस्था के मजबूती मिलत रही|

शेयर बाजारन में खतरा बनल रही

नोमुरा के रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर के शेयर बाजार में अस्थिरता जारी रही। दलाली फर्म के साफ मानना ​​बा कि फिलहाल शेयर बाजार खराब समय में रहे वाला बा। मंदी के आशंका का बीच बाजार में अउरी गिरावट आ सकेला. नोमुरा के रिपोर्ट में कहल गईल बा कि जदी दुनिया 2008 निहन मंदी में चल गईल त अमेरिका जईसन देश के अर्थव्यवस्था भी करीब 1.5 प्रतिशत के गिरावट आई। अइसना में संभावित मंदी कोरोना महामारी से पहिलहीं से त्रस्त दुनिया खातिर मुसीबत के एगो नया सिलसिला ले आ सकेला.

 

साभार – अमर उजाला

286800cookie-checkका मंदी आ रहल बा : का दुनिया में 2008 जइसन मंदी फेरु आ रहल बा, एकर असर भारत पर का होई?

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.