Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

प्राण के पुण्यतिथि : खलनायक बन के भी दर्शकन के दिल पर राज करत रहले प्राण , आखिरी पल में इ हाल रहे

0 2,974
सीवान इन्शुरेंस 720 90

बॉलीवुड अइसने दुनिया ह, जवना से बॉलीवुड के कई गो दिग्गज कलाकारन से परिचय करावल गइल बा. सिनेमा जगत के हर स्टार अपना अनोखा अंदाज आ अपना स्पेशलिटी खातिर जानल जाला. हो सकेला कि 60 से 90 के दशक के कई गो स्टार आजु एह दुनिया में ना होखसु बाकिर ओह लोग के परफॉर्मेंस का आधार पर ऊ लोग आजुओ लोग के दिल में जिंदा बा. एहमें दिग्गज अभिनेता प्राण के नाम शामिल बा. उहे प्राण जेकरा से फिलिमन में हीरो आ हीरोइन बहुते डेरात रहले. ओह घरी खलनायकी के एगो अउरी नाम प्राण कहल जात रहे. उनकर किरदारन के डर एतना रहे कि लोग अपना लइकन के नाम प्राण छोड़ दिहल. फिलिम के आखिर में सगरी कलाकारन के नाम का बाद ‘एंड प्राण’ लिखल गइल जवन एह फिलिम में ओह लोग के मजबूत मौजूदगी आ दर्शकन के क्रेज के संकेत देत बा. आज यानी 12 जुलाई उनकर पुण्यतिथि ह। एह मौका पर हम ओह लोग से जुड़ल कुछ बात बतावे जा रहल बानी.

बरखुदर शब्द सुनते ही मन में सबसे पहिले प्राण आवेला। प्राण के जनम 12 फरवरी 1920 के दिल्ली में भइल रहे। उनकर पिता खाली कृष्ण सिकंद सिविल इंजीनियर रहले। प्राण के तीन भाई आ तीन गो बहिन रहले. जवानी में फोटोग्राफी के शौकीन रहल प्राण बंटवारा से पहिले कुछ पंजाबी अवुरी हिंदी फिल्म में मुख्य अभिनेता के रूप में काम कईले। लाहौर में भी उ 1942 से 46 तक 22 फिल्म में अभिनय कईले। बंटवारा के बाद उ अपना पत्नी अवुरी बेटा के संगे पाकिस्तान से भारत अईले।

प्राण के असली नाम किशन सिकंदर ह। कहल जाला कि प्राण असल में फोटोग्राफर बने के चाहत रहले. बाकिर ऊ अभिनय में आपन कैरियर बनवले. प्राण अपना करियर के शुरुआत 1942 में खंदान फिलिम से कइलें। ऊ 22 गो फिलिमन में खलनायक के किरदार निभवले बाड़न. फिल्मन में नेगेटिव रोल क के प्राण अपना नाम पर एह डरावना खलनायक के टैग कइले रहले. प्राण ऊ कलाकार हउवें जे जनता के दिल से नायक बन के लोकप्रियता के गलत धारणा के दूर कर दिहलन.

प्राण अपना अभिनय के जादू दर्शकन के दिल पर एह तरह से बजावत रहले कि दर्शकन के आँख परदा से ना हटावल जा सके. एही से कहल जाला कि ऊ फिलिमन में नायक से बेसी फीस लेत रहले. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जहां अमिताभ बच्चन फिल्म डॉन खाती ढाई लाख रुपया लेले रहले, ओहिजा प्राण पांच लाख रुपया लेले रहले। निर्माता लोग भी उनुका के पइसा देबे से ना रोकल. अपना करियर में उ ‘मधुमती’, ‘देवदास’, ‘दिल दिया दर्द लिया’, ‘दोन’, ‘जंजीर’, ‘मुनीम जी’, ‘अमरदीप’, ‘मजबूर’, ‘दोस्ताना’, ‘नसीब’, ‘ कालिया’।’, ‘अमर अकबर एंथोनी’ बेहतरीन फिलिमन में काम कइले बाड़ी.

प्राण के तीन बेर फिल्मफेयर बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर अवार्ड मिलल. 1997 में इनके फिल्मफेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट के खिताब से सम्मानित कइल गइल। प्राण के हिंदी सिनेमा में दिहल योगदान खातिर साल 2001 में भारत सरकार के पद्मभूषण मिलल रहे, साथही दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित कइल गइल बा. प्राण 350 से अधिका फिलिमन में अभिनय कइले बाड़न. गोड़ काँप के ऊ 1997 से व्हील चेयर पर रहत रहले. साल 2013 में प्राण साहब 93 साल के उमर में आपन आखिरी सांस लेले रहले। दिल के दौरा पड़ला से प्राण साहेब के मौत हो गइल.

 

साभार- अमर उजाला

291850cookie-checkप्राण के पुण्यतिथि : खलनायक बन के भी दर्शकन के दिल पर राज करत रहले प्राण , आखिरी पल में इ हाल रहे

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.