Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

मशहूर फिलिम डायरेक्टर गुरुदत्त अउरी उनकर हिंदी सिनेमा में संघर्ष

0 2,188
सीवान इन्शुरेंस 720 90

29 जून 1962 ! मुंबई के चर्चगेट स्टेशन का सोझा खड़ा सिनेमा हॉल इरोस में गुरु दत्त के फिलिम ‘साहब बिवी और गुलाम’ रिलीज भइल. एक दिन पहिले 28 जून के साँझ एह फिलिम के प्रीमियर खुद इरोस में भइल रहे. एह इंडस्ट्री के तमाम बड़का अभिनेता, अभिनेत्री, फिल्म निर्माता आ फिल्म समीक्षक मौजूद रहले. मेहमानन के स्वागत करत गुरु दत्त, उनुकर लेखक अबरार अलवी, उनुकर प्रोडक्शन मैनेजर गुरुस्वामी, कैमरामैन वी.के. दलान में मीना कुमारी, वहीदा रहमान, गीता दत्त अवुरी विमल मित्र एक संगे बईठल रहले। फिल्म के शुरुआत होखे वाला रहे। गुरु दत्त तनी घबराहट आ तनाव में लउकत रहले. ई हिंदी फिलिम विमल मित्र के लिखल बंगाली उपन्यास पर बनल रहे. पहिले एह उपन्यास पर आधारित बंगाली फिलिम बढ़िया बिजनेस कइलसि.

गुरु दत्त के एह कहानी के बहुते प्यार रहे एह से ऊ एह पर हिंदी फिलिम बनावे के हिम्मत कइलन. प्रीमियर शो में लोग पूरा फिलिम देखले. फिल्म खतम होखला के बाद इंडस्ट्री के तमाम दिग्गज बहुत बढ़िया फिल्म क के गुरु दत्त के विदाई देत रहले। गुरु दत्त एह लोग के चेहरा पढ़े के कोशिश करत रहले कि ओह लोग के फिलिम बहुते नीक लागल कि खाली प्रीमियर के औपचारिकता करत रहुवे. काहे कि अगिला दिन से ई फिलिम दर्शकन का सोझा जाए वाली रहुवे.
अपना पसंदीदा हीरो हीरोइन के देखे खातिर हॉल के बहरी भारी भीड़ खड़ा हो गईल।

सबके गईला के बाद गुरु दत्त रंगमंच के गलियारा में खड़ा होके सिगरेट पीयत रहले। विमल दोस्त ओकरा लगे जाके कहलस कि घरे मत जाईं। अपना में खोवल गुरु दत्त उनुका ओर देख के पूछले कि फिल्म कईसन बा? विमल मित्र कहले कि फिल्म बहुत बढ़िया से बनल बा, हम पहिले भी बतवले रहनी। तब गुरु दत्त ओहिजा से अपना घर खातिर रवाना हो जाला। उनुका संगे ए कार में गीता दत्त अवुरी विमल मित्र भी मौजूद बाड़े। जब गाड़ी बंदरा पहुंचल त गुरु दत्त ड्राइवर से कहले कि हम अभी घरे नईखी जात। गाड़ी के दाहिने ओर घुमाईं। गाड़ी एगो घर के सोझा रुक गईल।

विमल मित्र, गुरु दत्त अवुरी गीता दत्त एगो बंगला में घुस गईले, जहां पार्टी चलत रहे। ओह पार्टी में संगीतकार अनिल विश्वास, मीना कपूर, निगम सुल्ताना आ फिलिम के कलाकार मौजूद रहलें. तब ओह घर के मालिक आ ओह पार्टी के मेजबान के. आसिफ गुरुदत्त के स्वागत बा। के आसिफ के अगिला फिलिम ‘लव एंड गॉड’ में गुरु दत्त मुख्य भूमिका निभावे वाला रहले.
ओहिजा साहेब बिवी आ गुलाम के चर्चा शुरू हो गइल. गुरु दत्त पूछता है सच कहो आसिफ.. फिल्म कईसन लागल? आसिफ कहले कि गुरु…अगर हम देर ना कईले रहतीं त आज हम एह फिल्म के निर्माता रहतीं..रउआ ना…विमल दा से पूछीं। उनकर एह उपन्यास के अधिकार पावे खातिर हम एक बेर बात कइले रहनी। एग्रीमेंट पेपर आ पइसा लेके हमार आदमी कलकत्ता पहुंचे से पहिले तू उनकर उपन्यास के राइट्स खरीद लेले रहलू। विमल मित्र मुस्कुरा के कहले कि आसिफ साहब बिल्कुल सच्चाई बतावत बाड़े। गुरु दत्त कहले कि उ सब छोड़ द… फिल्म कईसन रहल? का लोग एह फिलिम के देख लीहें? के आसिफ कहले कि हमनी के जरूर देखब जा। बाकिर अगर रउरा फिलिम के सफल बनावल चाहत बानी त फेर फिलिम के अंत बदल दीं. एकर अंत दुखद ना होखे के चाहीं बलुक सुखद अंत होखे के चाहीं. गुरु दत्त कवनो जवाब ना दिहले.

अगिला दिने बियफे का दिने लोग फिलिम देखे खातिर थियेटर जाए लागल. गुरु दत्त के लगे खबर आवे लागल कि फिलिम कहाँ जा रहल बा… कहाँ नइखे। दुपहरिया भा साँझ के शो खातिर केतना लोग आवत बा. गुरु दत्त के खबर मिलल कि फिल्म के आखिरी हिस्सा में जब छोटी बहु (मीना कुमारी) अवुरी भूतनाथ (गुरुदत्त) वैगन से मंदिर जा रहल बाड़े। ओह सीन में छोटकी पतोह बतियावत घरी भूतनाथ के कंधा पर आपन माथा बिछावेली. लोग हॉल में सीटी बजावे लागेला आ गंदा टिप्पणी करे लागेला.
गुरु दत्त खुद मुंबई के मिनर्वा टॉकीज में नाईट शो में शामिल होखेले. फिल्म में जब ऊ सीन आवेला त असल में लोग अश्लील टिप्पणी करे लागेला.

गुरुदत्त हड़बड़ा के अतवार का दिने अपना स्टूडियो में शूटिंग करत रहेलें. मीना कुमारी छुट्टी मनावे लोनावला गईल रहली, उनुका के बोलावल जाला। बग्गी के ए सीन के शूटिंग बा जवना में छोटकी पतोह भूतनाथ के कंधा प आपन माथा ना रखेले, बालुक दुनो लोग सामान्य तरीका से बात करेले। रात में ओह सीन के एडिट क के ई सीन सबेरे ले मुंबई सिनेमाघरन के सगरी प्रिंट में जोड़ दिहल जाला. सोमवार के शो में गुरु दत्त के टीम के जनता से कवनो आपत्तिजनक टिप्पणी ना सुने के मिलेला।

बाकिर तीन से चार दिन के खबर से लोग अंदाजा लगावे लागल कि ई फिलिम फ्लॉप हो जाई. फेर एक रात गुरु दत्त के. आसिफ के घरे पहुँच जा। पहिलहीं से जमघट हो रहल बा. भोज-भात फेंकल जा रहल बा। का. आसिफ एह इंडस्ट्री के अकेला फिलिम निर्माता रहले जिनका घर में आमतौर पर दू दिन पार्टी होखत रहे. रात के तीन बजे तक पार्टी चलत रहे। गुरु दत्त के देख के आसिफ साब पूछले कि का हो रहल बा गुरु? फिल्म के अंत बदलत बानी कि ना? गुरु दत्त कहले कि हमरा समझ में नईखे आवत कि हम का करीं। आसिफ कहली कि बस अयीसन करीं कि छोटकी पतोह के समर्पण अवुरी प्यार से उनुकर पति रहमान के गलती के एहसास हो जाए। ऊ बदल जाला आ ओकर तबियत ठीक हो जाला. छोटकी पतोह के हत्या ना भईल। तब दुनु मियाँ मेहरारू सुख से जिनिगी जिए लागेली सँ.

दू रात से गुरु दत्त के नींद नइखे आवत। घर में बइठक बोलावेला। प्रोडक्शन मैनेजर गुरुस्वामी, अबरार अलवी, वीके मूर्ति, विमल मित्र सभे मौजूद बाड़े. गुरुदत्त प्रोडक्शन मैनेजर से कहत बाड़न कि काल्हु से स्टूडियो में ‘साहेब बिवी गुलाम’ खातिर हाउस सेट तइयार करे के काम शुरू कर दिहल जाव. हमनी के फिल्म के अंत बदले के बा। अबरार अलवी विरोध करेला कि रउरा का करे जा रहल बानी. गुरु दत्त विमल मित्र से पूछतारे कि आपके कवनो आपत्ति बा कि ना। विमल मित्र के कहना बा कि हमार उपन्यास के अधिकार रउरा खरीद लिहले बानी, रउरा जवना तरह से चाहब एकर इस्तेमाल कर सकीलें.

गुरुदत्त कहतारे कि मीना अऊर रहमान से कह दीं कि उ लोग के शूटिंग खातिर तैयार रहे के चाही। 6-7 दिन तक इनकर तारीख ले लीं। अबरार अलवी फेरु चुटकी लेत कहले कि हमनी का अंत बदल के एह फिलिम से न्याय ना कर पइब जा.

गुरु दत्त चिढ़वले कि एह फिलिम में बीस लाख से अधिका के पइसा लगावल गइल बा. फाइनेंसर लोग हमरा माथा के ऊपर बा। हमरा त बहुते दबाव बा. फिल्म में पईसा वापस पावे खातिर फिल्म के अंत में बदलाव कईल जरूरी बा। इ कहत गुरु दत्त सिगरेट पीयत कमरा से निकल गईले। कमरा में सन्नाटा पसर गईल रहे।

गुरु दत्त के एह बात से बढ़िया से मालूम बा कि एह फिलिम में ट्रेजेडी क्लाइमेक्स टुटत सामंती युग के ओर इशारा करत बा. सामंतियन के आँख पर फूहड़ता के करिया तमाशा ओह लोग के आन्हर बना दिहले बा. ई क्लाइमेक्स अपना क्रूरता, शोषण आ विलासिता से बनल जमीन के दरार आ फिसलन के झिलमिलात छवि ह.
बाकिर गुरु दत्त के कलात्मक अभिव्यक्ति पर बॉक्स ऑफिस पर दबाव बनल रहे.

त गुरु दत्त स्टूडियो के आर्ट डायरेक्टर बीरेन नाग अपना सेटिंग का साथे सेट तइयार करे लगलन. मीना कुमारी आ रहमान के गोली मारे के तारीख के पुष्टि हो गइल बा. भानु अथैया फेरु वेशभूषा के तइयारी करे लगलन. विमल मित्र के संगे बईठ के अबरार अलवी फिल्म के अंतिम सीन प काम करे लगले।

गुरु दत्त के बंगला में विमल मित्र अवुरी अबरार अल्वी पटकथा प काम करत रहले। गुरुस्वामी अवुरी वीके मूर्ति दुपहरिया से हॉल में बईठल गुरु दत्त के इंतजार करत रहले। गुरु दत्त सबेरे से अपना कमरा से बाहर ना आईल रहले। उनकर नौकर रतन कमरा में चाय, सिगरेट आ स्नैक्स पहुंचावत रहले। गुरु दत्त के पता रहे कि लोग उनकर इंतजार कर रहल बा। लेकिन गुरु दत्त कवना विचार के सागर में डूबल बाड़े, केहु के पता ना चलल।

अचानक ऊ साँझ के कमरा से बाहर आ जाला। उनकर पूरा टीम हॉल में बइठल बा। गुरु दत्त कहले कि हम तय क लेले बानी कि फिल्म जईसन बनल बा ओसही बनल रही। हमनी के एकर अंत ना बदलब जा। चाहे जवन लागत होखे ओकरा खातिर हमरा देबे के पड़ी. उनुका मना कईला के बाद जवन गोलीबारी के तैयारी चलत रहे उ अचानक बंद हो गईल। गुरु दत्त के एह मूडी स्वभाव के बारे में यूनिट में सब लोग अवगत रहे।

अगिला दिने अतवार का दिने टाइम्स ऑफ इंडिया में साहब बिवी गुलाम पर एगो बहुते बड़हन लेख छपल जवना के हेडलाइन रहे “गुरु दत्त के एगो अउरी क्लासिक”. गुरु दत्त के घर के टेलीफोन बार-बार बाजे लागल। अलग अलग इलाका के वितरकन से फोन आवे लागल कि एह फिलिम के गति मिल रहल बा. दर्शकन में मेहरारूवन के संख्या बढ़ रहल बा. 20 लाख रुपिया में बनल फिलिम साहब बिवी गुलाम बॉक्स ऑफिस पर 84 लाख रुपिया के कारोबार कइलसि.

दसवाँ फिल्मफेयर अवार्ड समारोह में एह फिलिम के चार गो फिल्मफेयर अवार्ड मिलल. सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक, सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री आ सर्वश्रेष्ठ सिनेमैटोग्राफी के नाम बा.
‘साहब बिवी और गुलाम’ के 1962 में सर्वश्रेष्ठ फिल्म के राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिलल रहे।

291010cookie-checkमशहूर फिलिम डायरेक्टर गुरुदत्त अउरी उनकर हिंदी सिनेमा में संघर्ष

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.