Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे : मंदिर ध्वस्त भइल, खजाना लुटा गईल लेकिन शिवलिंग के हिलावल ना जा सकल

शिवमहापुराण में रहस्य छिपल बा

0 655
सीवान इन्शुरेंस 720 90

मुगल युग के सभ इतिहासकार लोग लिखले बा कि काशी के मुख्य पैगोडा के नष्ट होखला के बाद आक्रमणकारी लोग ओह शिवलिंग के अपना साथे ले जाए के कोशिश कइल, जवन कि एगो बहुमूल्य पत्थर नियर लउकत रहे। तमाम प्रयास के बावजूद उ शिवलिंग के मूल स्थान से ना हट पवले। आखिरकार शिवलिंग छोड़ के सब खजाना लेके चल गईले।

शिवलिंग के अपना संगे ले जाए के उनुकर सभ प्रयास काहें नाकाम रहल, एकर जवाब शिव महापुराण के 22वां अध्याय के 21वां श्लोक में मिलता। आजकल बीएचयू में इतिहास विभाग के प्रो जे पुराण के विशेष अध्ययन कर रहल बाड़े। प्रवेश भारद्वाज कइले बाड़न. प्रो. भारद्वाज के मुताबिक इतिहास गवाह बा कि कुतुबुद्दीन ऐबक, रजिया सुल्तान, सिकंदर लोदी अवुरी औरंगजेब काशी के मंदिर के जबरदस्त नुकसान पहुंचवले। सभे अपना-अपना समय में काशी के मुख्य पैगोडा प भी हमला कईले रहे। मंदिर के खजाना लूट गईल लेकिन लाखों प्रयास के बाद भी शिवलिंग के अपना संगे ना ले जा पवले। शिवलिंग अपना जगह से ना हिलल काहे कि ऊ शिव के आदेश के पालन करत रहे. शिव महापुराण में एगो श्लोक बा – ‘अविमुक्तं स्वयं लिंग स्थापितं परमात्मना। न कदाचित्वया त्याज्यामिंद क्षेत्रं ममांशकम्।’

पं. ब्रह्मानंद त्रिपाठी एह श्लोक के समझवले बानी – ‘शिवलिंग काशी से बाहर ना जा सके काहे कि शिव जी खुदे अविमुक्त नाम के शिवलिंग के स्थापना कइले बाड़न। शिव आदेश दिहलन कि हमार जवन ज्योतिर्लिंग ह ऊ कबो एह इलाका से ना निकले.’ ई कहत देवाधिदेव महादेव अपना त्रिशूल के माध्यम से एह ज्योतिर्लिंग के काशी में स्थापित कइलन.

वाटसन कहले कि 1810 में हिन्दू के सौंप दीं

ब्रिटिश मजिस्ट्रेट वाटसन 30 दिसंबर 1810 के ‘परिषद के उपाध्यक्ष’ में कहले रहले कि ज्ञानवापी परिसर के हमेशा खातिर हिन्दू लोग के सौंप दिहल जाए। ओह परिसर में हर जगह हिन्दू देवी-देवता के मंदिर बा. मंदिरन के बीच में मस्जिद के अस्तित्व एह बात के प्रमाण बा कि ऊ जगह भी हिन्दू लोग के ह। तब अंगरेजी सरकार अपना अफसर के बात ना सुनलस। ओह एपिसोड के 212 साल बाद भी ज्ञानवापी परिसर के लेके दुनो पक्ष अपना-अपना दावा प दृढ़ता से खड़ा बा।

बीएचयू के प्राचीन इतिहास, संस्कृति आ पुरातत्व विभाग में भईल एगो अध्ययन के मुताबिक, साल 1809 में ज्ञानवापी के लेके हिन्दू-मुसलमान आमने-सामने हो गईल रहले। ओह दौरान हिन्दू लोग एगो भयंकर संघर्ष में ज्ञानवापी मस्जिद पर कब्जा कर लेले रहे। तब बंगाल के राज्यपाल बनारस के तत्कालीन मजिस्ट्रेट वाटसन से ए मामला के पूरा जानकारी मंगले रहले। वाटसन कहले रहले कि इ निश्चित रूप से हिन्दू लोग के जगह ह। लगभग 126 साल बाद 11 अगस्त 1936 के राज्य परिषद, अंजुमान इनाजनिया मस्जिद समिति अउरी सुन्नी केंद्रीय वफ़ल बोर्ड एगो याचिका दाखिल कईलस| एह मामिला के 1937 में खारिज कर दिहल गइल. पांच साल तक चलल इ मामला 1942 में हाईकोर्ट में गईल रहे| उहाँ मुस्लिम पक्ष के दावा भी खारिज हो गईल|

253830cookie-checkज्ञानवापी मस्जिद सर्वे : मंदिर ध्वस्त भइल, खजाना लुटा गईल लेकिन शिवलिंग के हिलावल ना जा सकल

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.