Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

मध्य-प्रदेश पंचायत चुनाव : मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव पर सुप्रीम कोर्ट के बड़ फैसला

ओबीसी आरक्षण के संगे होई चुनाव

0 109
सीवान इन्शुरेंस 720 90

सुप्रीम कोर्ट पंचायत चुनाव आ शहरी निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण देबे के मंजूरी दे दिहलसि. एकरा संगे-संगे सात दिन में आरक्षण के आधार प अधिसूचना जारी करे के निर्देश दिहल गईल बा। संगही कहल गईल कि राज्य में कुल आरक्षण 50% से जादे ना होखे के चाही। एकरा से पहिले 10 मई के सुप्रीम कोर्ट ट्रिपल टेस्ट के अधूरा रिपोर्ट के आधार प बिना ओबीसी आरक्षण के चुनाव करावे के निर्देश देले रहे। एकरा बाद राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसला प रिवीजन याचिका दाखिल कईले रहे। जरुरी बा कि पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग के रिपोर्ट के आधार प आरक्षण करे के आदेश दिहल गईल बा।

मध्यप्रदेश के नगर विकास मंत्री भूपेन्द्र सिंह कहले कि अभी-अभी माननीय सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भईल बा। सुप्रीम कोर्ट के दिहल आदेश में सरकार के बहुत बड़ सफलता मिलल बा। सुप्रीम कोर्ट 2022 के सीमांकन के आधार प चुनाव करावे के मांग के स्वीकार क लेले बिया। ओबीसी आरक्षण के मांग भी मान लिहल गईल बा। सुप्रीम कोर्ट के कहना बा कि एक हफ्ता का भीतर ओबीसी आरक्षण करावल जाव. दरअसल, 10 मई के आदेश के बाद मुख्यमंत्री संशोधन याचिका दाखिल करे के प्रयास तेज कईले रहले, जवना से विदेश यात्रा रद्द हो गईल रहे। ए मामला में उ खुद दिल्ली जाके वरिष्ठ वकील से सलाह लेले। एकरा से पहिले मंगलवार के सुप्रीम कोर्ट राज्य सरकार से संशोधन याचिका प कुछ जानकारी मंगले रहे, जवना के आधार प सरकार मध्यप्रदेश के ओबीसी आबादी के शरीरवार जानकारी के अदालत के सोझा रखले रहे।

अइसे मिली आरक्षण 

सुप्रीम कोर्ट साफ-साफ कहलस कि कवनो भी हालत में आरक्षण 50% से जादे ना होखे के चाही। अगर राज्य के हिसाब से देखल जाव त राज्य में अनुसूचित जाति (अनुसूचित जाति) श्रेणी में 16% आ अनुसूचित जनजाति (अनुसूचित जनजाति) के 20% आरक्षण मिल रहल बा। एह तरह से 36% आरक्षण के लाभ दिहल जा रहल बा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक 50 प्रतिशत से जादे आरक्षण ना होई। त, (50-36=14) ओबीसी के 14 प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण ना मिली।

हालांकि राज्य सरकार के बिना रोटेशन के पंचायत चुनाव करावे के फैसला के चुनौती देत ​​कांग्रेस नेता सैयद जाफर सुप्रीम कोर्ट में कहले कि अब जिला पंचायत के मुताबिक आरक्षण के फैसला होई। अगर कवनो जनपद पंचायत में अनुसूचित जनजाति के आबादी 30% आ अनुसूचित जाति के 25% बा त ओबीसी के कवनो आरक्षण ना मिली। एकरा साथे-साथे अगर कवनो जनपद पंचायत में अनुसूचित जनजाति के आबादी 30% बा आ अनुसूचित जाति के आबादी 15% बा त ओबीसी के 5% आरक्षण मिली। अगर जनपद पंचायत में अनुसूचित जनजाति आ अनुसूचित जाति के जनसंख्या 5-5% बा। माने कि ओबीसी के आबादी 40% बा, तब अयीसन स्थिति में ओबीसी कैटेगरी के 35% से जादे आरक्षण ना मिली।

253610cookie-checkमध्य-प्रदेश पंचायत चुनाव : मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव पर सुप्रीम कोर्ट के बड़ फैसला

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.