Khabar Bhojpuri
भोजपुरी के एक मात्र न्यूज़ पोर्टल।

महेंदर मिसिर उपन्यास के बहाने उहाँ के व्यक्तिव पर एगो विमर्श

3,877

आगा बढ़े से पहिले महेंदर मिसिर के बारे में कुछ जान लीहल जरूरी बुझाता –

महेंद्र मिसिर के जनम 16 मार्च 1888, काहीं-मिश्रवालिया, सारण, बिहार आ उहाँ के निधन 26 अक्टूबर 1946 । उहाँ विद्यालयी शिक्षा ना हासिल होखला का बादो संस्कृत, हिन्दी, उर्दू, फारसी, भोजपुरी , बांग्ला,अवधी, आ ब्रजभाषा के विशद गियान रहे। चबात रहीं। महेन्दर मिसिर के पत्नी के नाम परेखा देवी रहे। परेखा जी कुरूप रहली। त कादों एही का चलते गीत-संगीत में अपने मन के भाव उतरले बाड़ें महेन्दर मिसिर। महेंदर मिसिर के एकलौता बेटा रहलें हिकायत मिसिर आशुकवित्व के गुण रहे। गीत अउर संगीत में बरोबर पकड़ रहे। सगरे लोकधुनन , छंद आ राग-रागीनियन में मजगर पैठ। लोक धुन ‘पूरबी’ के बेताज बादशाह का रूप में लमहर पहिचान। भोजपुरी के पहिल महाकाव्य ‘अपूर्व रामायण’ के सर्जक। कबीर, सुर , तुलसी, मीराबाई के परंपरा के भक्तकवि रहनी। निरगुन आ सगुन दूनों रूपमें जबर सिरजना। उहाँ के कुछ चर्चित कृति महेंद्र मंजरी, महेंद्र विनोद, महेंद्र दिवाकर, महेंद्र प्रभाकर, महेंद्र चंद्रिका, महेंद्र मयंक, कृष्ण गीतावली, भागवत दशम स्कन्ध,भीष्म प्रतिज्ञा आदि रहे।

गीतन के कुछ बानगी देखीं-

1) अंगुरी मे डंसले बिआ नगिनिया, ए ननदी दिअवा जरा दे ।
2) सासु मोरा मारे रामा बांस के छिउंकिया, सुसुकति पनिया के जाय,
पानी भरे जात रहनी पकवा इनरवा, बनवारी हो लागि गईले ठग बटमार।
3) आधि आधि रतिया के पिहके पपीहरा, बैरनिया भईली ना,
मोरे अंखिया के निनिया बैरनिया भईली ना ।
4) पिया मोरे गईले सखी पुरबी बनिजिया, से दे के गईले ना,
एगो सुगना खेलवना से दे के गईले ना।
एह गीतियन के सुनते बहुते लोग बता सकेले कि एकर लिखनिहार महेंदर मिसिर जी बानी।

महेंदर मिसिर उपन्यास के रचना उपन्यासकार पंडित रामनाथ पाण्डेय जी के कहानगी का हिसाब से मोती बी ए जी के बेर बेर हुरपेटला के वजह से भइल रहे। आजु सभे सोचे खातिर विवश बा कि मोती बी ए जी काहें हुरपेटलें ? कारन रहे कि महेंदर मिसिर जइसन भोजपुरी के धरोहर के भोजपुरी साहित्य आ समाज में उचित अथान मिलो। काहें से कि महेंदर मिसिर के लेके समाज में कई तरह के भ्रांति पसरल रहल । जवना पर के गरदा उड़ावल जरूरी रहल। एही का चलते पंडित रामनाथ पाण्डेय जी कई बेर काहीं मिश्रवलियाँ के चक्करों लगवलें आ समुचित जानकारी जुटवलें। एकरा इतर उपन्यास खातिर काम करत बेरा समाज के ढेर लोगन से मिललें आ ढेर भ्रांतियन से धूरा झारे में उहाँ के मदद मिलल। जवना के जिकिर उहाँ के अपने ‘आपन सफाई’ में कइलहूँ बाड़न। जवना महेन्द्र मिसिर पर आजु सगरे देश के गरब अउर गौरव होखे के चाहत रहल ह, वोही देश के एगो प्रांत बिहार के सरकार महेन्द्र मिसिर के एगो प्रखंड स्तर तक के आयोजन तक सीमित क दीहलस आ केन्द्र सरकार के सूची से गायबे बा। आजु प्रखर राष्ट्रवादी, स्वतंत्रता के लड़ाई में अंग्रेजी अर्थव्यवस्था के नोट छाप के चुनौती देवे वाले, पूर्वी धुन के जनक अउर भोजपुरी, हिन्दी के साहित्यकार महेन्द्र मिसिर जी के जयंती का बेरा में कुछ बातिन से परदा उठावल जरूरी बा। एकरा विषय में हम विस्तार से तथ्य उकेरे के परयास करेम । आईं पहिले उपन्यास महेंदर मिसिर के लेके कुछ देख लीहल जाव ।
पंडित रामनाथ पाण्डेय जी एह ऐतिहासिक उपन्यास ला जरूरी कल्पनों के सहारा लेले बाड़न। ओकर कुछ बानगी देखहूँ जोग बा-
” डेरा मत, तूँ अपना के थोड़ा बदल दS। बेड़ा पार हो जाई। भगवान राम कावरी थोड़ा झुक जा। उनकर कथा कहS। उनकर गीत गावS।”
हनुमान जी का संगे उनकर ई साक्षात्कार भोजपुरी के पहिल महाकाब्य ‘अपूर्व रामायन’ लिखे क बिरवा नायक महेंदर मिसिर के मन में उपन्यासकार डाल दीहलें। कहीं न कहीं ई साक्षात्कार तुलसी दास के इयादो ताजा करा रहल बा।
“चित्रकूट के घाट पर भई संतन की भीर
तुलसी दास चन्दन घिसें, तिलक देत रघुबीर।”
इहों हनुमान जी प्रेरित क रहल बाड़न। आ तुलसी बाबा के रामचरित मानस लिखे क ऊर्जा मिलल। ठीक इहे स्थिति ‘अपूर्व रमायन’ ला महेंदर मिसिर के बा। अब आईं अइसन कुछ अउर बातन पर नजर डालल जाव, जवन पंडित रामनाथ पाण्डेय जी के एगो पारंगत उपन्यास कार होखला के चिल्ला चिल्ला के सबूत दे रहल बा। एक बेर फेर से हम रउवा सभे के धियान रामचरित मानस का ओर ले के चलल चाहत बानी-
बाली बध के बाद रामचरित मानस के नायक ‘राम’ क चरित तनि कमजोर पड़त देखाए लागल, तुलसी बाबा तुरते राम से कहवा देलन-
“अनुज सुता भगिनी सुत नारी / सुनू सठ कन्या सम ये चारी।
इनही कुदृष्टि बिलोकहीं जेही/ तिनके बधे कछु पाप न होई॥ ”
अब आईं ‘ महेंदर मिसिर’ उपन्यास पर, जब ढेला बाई आ केसर बाई से भइल अपमान का चलते नायक महेंदर मिसिर के चरित कमजोर पड़त देखाए लागल त पं रामनाथ पाण्डेय जी काशी के दर्शन करावत, ओकर महिमा बतावत कबीर बाबा आ रैदास जी के अतमा से नायक के साक्षात्कार करा देलन आ नायक के ओकरे सही राह पर चले खातिर प्रतिबद्ध क देलन।
उपन्यास ‘ महेंदर मिसिर’ के नायक उदार मन के रहलें, उनुका से ओकरो दुख न देखल जात रहे जेकरा से उ नराजों रहस। तबे नु बिद्याधरी बाई से केसर बाई के बेमारी आ लकवा मरला के बात सुनि के उनुका के काठ मार देलस आ केसर बाई तक आपन सनेसा भेजे खातिर गंगा माई से विनती करत गावे लगलें-
सासु मोरे मारे राम बाँस के छिउंकिया
ए ननदिया मोरी रे, सुसुकत पनिया के जाय।
गंगा रे जमुनवा के चिकनी डगरिया
ए ननदिया मोरी रे, पऊंवा धरत बिछिलाय।
छोटे मोटे पातर पियवा हँसी के ना बोले
ए ननदिया मोरी रे, सेहो पियवा कहीं चलि जाय।
छोटे मोटे जामुन गछिया फरे न फुलाय
ए ननदिया मोरी रे, सेहो गछिया सूखियो ना जाय।
गावत ‘महेंदर मिसिर’ इहो रे पुरुबिया
ए ननदिया मोरी रे, पिया बिनु रहलो न जाय।

उपन्यासकार पं रामनाथ पाण्डेय भारतीय परम्परा के पोसक आ धरम में असथा राखे वाला बेकती रहलें। एकर झलक देखे खातिर बस एक गो बात हम राखल चाहेम कि उपन्यास के नायक ‘महेंदर मिसिर’ के अपना मउवत के आभास जइसही भइल, उ एगो निरगुन गावे ला मंच सजवा के सभे के जुटा लेलन। गीत खतम होते उहाँ के गोलोक चल गइलन। हिन्दू भा वैदिक परम्परा में अंतिम बेरा में भगवान के सब ईयाद करेला। उपन्यास के नायको से ई काम पाण्डेय जी करवा देलन। देखी-
एकहू गहनवा नइखे सारी
हो कइसे जाईं ससुरारी।
खेलत रहनी हो सिपुली- मउनिया से,
आई गइलें गवना के नियारी।
बाबा घरे रहितें, मोर भइया घरे रहितें,
त फेरि देते डोलिया कहारी।
नाही मोरा लूर ढंग,एको ना रहनवा,
पिया हमसे करिहें पूछारी।
मिलि-जुलि लेहु सभ संग के सहेलिया,
करी लेहू भेंट-अंकवारी।
क़हत महेंदर सुनS संग के सहेलिया,
छुटि गइलें बाबा के दुआरी।

उपन्यास ‘महेंदर मिसिर’ के आमुख लिखत बेरा आदरणीय (डॉ) भगवती शरण मिश्र जी के ई बाति धियान देवे जोग हवे – ” महेंदर मिसिर स्वतन्त्रता के इतिहास के एगो उपेक्षित पात्र रहल बाड़न, जबकि उनुकर योगदान भारतीय आजादी के इतिहास में कम नइखे। महल के चमकत कंगूरा त सब लोग देखेला, नेंव में चल गइल ईंटा प केकर धेयान जाला ? महेंदर मिसिर अइसन कतना लोग नेंव के पथल बन गइल। ऊ लोग के चमका के हीरा बनावे वाला लोग के भारी कमी बा। श्री राम नाथ पाण्डेय जी इहे कइले बानी। कम से कम एगो नेंव के पथल के बढ़िया से तरास के हीरा त बनाइये देले बानी।”

जहाँ तहाँ ठेठ भोजपुरी के ठाट एह उपन्यास के बनावट- बुनावट में चार चाँद लगा रहल बा। कुछ अइसने कहनाम आदरणीय (डॉ) भगवती शरण मिश्र जी के बा आ एकरा पक्ष में कुछ उदाहरणो रखले बानी, जवन एही उपन्यास से बा। रउवो देखीं-
‘ भाला छतिया के जब महेंदर मिसिर निसाना साधस, त लोग डरे बनउरी अइसन एक-दोसरा पर पटउर पड़ जाय। लोग सँभार के उठे-उठे तले दोसरको ओरी इहे लीला। ‘
‘पापी-से-पापी के काया के कांचन करत इनका मन में कबहीं ई भाव ना उपजल कि हम पतित पावनी हईं । लोग भले उनुका के पतित-पावनी क़हत होखे। लोगन के कुकर्म के अपने अंगीकार भले कइलीं, बाक़िर केकरो पर कबही एहसान ना लदली। बस एह धरती पर आ के अपना के कई साखा-उपसाखा में बाँट के छितरा देली आ खूब ज़ोर से खिलखिलात समुंदर में अमा जाली।’
‘महेंदर मिसिर’ उपन्यास में उपन्यासकार पं रामनाथ पाण्डेय जी के दार्शनिको रूप के दर्शन भइल बा। कई विद्वान लोग कहेला कि लेखक के दार्शनिक होखल उचित ना होला बाकि इहाँ पाण्डेय जी के लेखन में लउकत बा। बाक़िर ऊ लेखन पर हावी नइखे होत। देखीं-
‘ विश्राम आ लक्ष्य के प्राप्ति के प्रयास में तनिको मेल नइखे। विश्राम के चाह आदमी के अपना लक्ष्य से दूर हटा देला आ विश्राम के त्याग आदमी के अपना लक्ष्य के पास पहुंचा देला।’
कउनो कथा, कहानी भा उपन्यास में जवन सभले खास होला, उ ह कथ्य, कथोपकथन, भाषा आ शिल्प । एह कुल्हि कसौटी पर ई उपन्यास मील के पथल बा,एहमे संदेह नइखे। एकरा संगही चरित्र चित्रण एगो अइसन अंग होला, जवन कथा, कहानी भा उपन्यास के दसा-दिसा तय करेला, मने नीमन चरित्र – चित्रण कथानक के उच्च श्रेणी में खड़ा क देला। एह उपन्यास में केहुओ के चरित्र के संगे अन्याय नइखे भइल। उपन्यास के नायक महेंदर मिसिर , जमींदार हलवन्त सहाय , स्वतन्त्रता सेनानी अभयानन्द आ ढेला बाई के संगही गंगियो के चरित्र नीमन से उभर के सोझा आइल बा।कहानी के बहाव गंगा माई के बहाव लेखा बा बेलौस, कतों बाधित होत नइखे देखात। ई पं रामनाथ पाण्डेय के लेखन के ढेर खास बना रहल बा।

कथानक में महेंदर मिसिर के चरित्र के दू गो रूप उभर के सोझा आवता, संगीत साधक आ स्वतन्त्रता सेनानी। पूरे उपन्यास में एह दूनों के चाल एक-दोसरा अगल-बगल होइयो के एक दोसरा से स्पर्धा करत नइखे देखात। बलुक एक-दोसरा के पूरक लेखा बा। कवनों एक रूप में नायक के मूल्यांकन नायक के संगे अन्याय होखित बाकि अइसन कुछ इहाँ नइखे भइल।

अब जवन बात विमर्श के जोग बा ओकरो आज चरचा होखल जरूरी बा। महेंदर मिसिर के चरित्र पर लोग दू कारन ले के अंगूरी उठावेला- जाली नोट छापल आ ओकरा चलते जेल के जिनगी जीयल आ दोसरका बाई जी लोगन के कोठा पर आइल-गइल। अब पहिले जाली नोट छपला के लेके जवन निरर्थक विरोध लोग करेला,उ अज्ञानते कहल जा सकेला काहे से कि ओकर परयोग महेंदर मिसिर अपना सोवारथ में कबों नइखे कइले। एह बाति के प्रमाण उनुका परिवार खुदे बा जवन ओह घरी जमींदार परिवार रहल बा। जहाँ कवनों सुख-सुविधा के कमी नइखे रहल। ई पक्ष उपन्यासकार बखूबी से उकेरले बाड़न। संगही इहों जानल जरूरी बा कि बंगाल के संन्यासी आन्दोलन के प्रभाव रहे मिसिर जी पर। उनका देशभक्ति के धुन सवार हो गइल आ ऊ अंगरेजन के उखाड़ फेंके खातिर आ क्रन्तिकारियन के मदद खातिर जाली नोट छापल शुरू कर दिहलें। अंगरेजन के कान खड़ा हो गइल। उ खुफिया तंत्र के जाल बिछा देलन स। सीआइडी के जटाधारी प्रसाद आ सुरेन्द्र नाथ घोष के अगुवाई में खुफिया तौर-तरीका से छानबीन चलल। जटाधारी प्रसाद त गोपीचंद बनि के तीन बरिस ले मिसिरजी के संघतिया आ नोकर रहले आ भरोसा जीति के घात कर देलें। 16 अप्रैल, 1924 के रात में नोटे छापत में नोट के गड्डी आ मशीन का साथे महेन्दर मिसिर आ उनका चारो भाई के गिरफ्तार करवा देलें। बाक़िर संजोग से महेंदर मिसिर ओह घरी सूतल रहलें, एही से उनुका सजा में रियाइत भइल रहे। एह बाति के तसदीक संसद सदस्य रहि चुकल स्वतंत्रता सेनानी बाबू रामशेकर सिंह आ श्री दइब दयाल सिंह जइसन लोग मनले बा कि मिसिर जी के घर क्रांतिकारी लोगन के अड्डा बनि गइल रहे। असली बात त इ रहे कि नोट छापे के काम आपन सुख के खातिर ना बलुक अंगरेजी राज के इंतजाम चउपट करे खातिर शुरू भइल। जवन एह गीत से ठीक बुझा रहल बा जवन जटाधारी मने गोपीचंद कहले बाड़न –

नोटवा जे छापि-छापि गिनिया भजवलऽ ए महेन्दर मिसिर
ब्रिटिश के कइलऽ हलकान, ए महेन्दर मिसिर
सगरे जहनवां में कइलऽ बड़ा नाम, ए महेन्दर मिसिर
पड़ल बा पुलिसवा से काम, ए महेन्दर मिसिर!
बाकिर महेंदर मिसिर अइसन काहे कइलन। अपना गीत में बतावत बाड़न –
‘हमरा नीको ना लागे राम, गोरन के करनी
रुपया ले गइले, पइसा ले गइले, ले गइले सब गिन्नी
ओकरा बदला में त दे गइले ढल्ली के दुअन्नी
हमरा नीको ना लागे राम, गोरन के करनी

अब दोसरकी बाति – जवन बाई जी लोगन के कोठा पर गइला के लेके लोग उठावेला। महेंदर मिसिर बाई जी लोग के कोठा पर एगो संगीत साधक के रूप में जात रहन। उनुका केसर बाई, बिद्याधरी बाई भा ढेला बाई से प्रेम भइलो रहल बाकि ओहमें वासना के अथान ना रहे।

सभे ले मजगर बात जवन डॉ० मुन्ना कुमार पाण्डेय अपना कथ्य में लिखत बाड़न – ” महेंदर मिसिर भोजपुरी प्रांत आ भाषा के सबसे लोक प्रसिद्ध आ सम्मानित नाम बाड़ें बाक़िर एगो बड़ दुर्भाग्यो उनका संघे जुड़ल बा। जवन आदमी पूरबी के जनक मानल जाला आ भोजपुरिया समाज, साहित्य आ संस्कृति में एगो बड़हन नाम बा , जनता के दिल आ जुबान पर ओकर गीत बसल बा आ जेकरा से ओकरा समय के सब कलाकार , साहित्यकार प्रभावित रहे आ जउन आदमी राष्ट्रीय आंदोलन के ना मालूम केतना सिपाही लोग के मदद कइलस, उ पता ना कवना साजिस भा दुर्भावना से जाने-अनजाने मुख्य धारा के साहित्य आ संस्कृति से कगरिया दीहल गइल।”

कतों न कतों डॉ मुन्ना कुमार पाण्डेय के एह बाति से सहज इत्तेफाक हो जाला कि “सारण के एगो ब्राह्मण परिवार में जनम लेके लीक से अलगा हट के भोजपुरी कला कर्म आ काव्य के एगो व्यापक फ़लक तक पहुँचइलें। लोक कहावत ‘….लीक छोड़ तीन चले शायर, सिंह, सपूत’ मिसिर जी पर पकिया बइठेला। उहाँ के लीक छोड़िए के चलल रहनी ओहिसे एगो रहस्यमयी, मिथकीय चरित्र बन गइनी। ” कई बेर इहों बात मन के मथेले कि का उहाँ क बाभन के कुल में जनम लीहल भोजपुरी के इतिहासकार लोगन खातिर अपराध हो गइल रहे ? भा एकरा पाछे कवनो अउर लमहर खेला बा?
भा ओह घरी से लेके आजु तक के विमर्शक, इतिहासकार आ विद्वान लोगन के आपन सोवारथ देखाइल। ई बाति केहुओ के सोचे के मजबूर कर सकत बा कि महेंदर मिसिर के संगे अइसन अन्याय काहे? महेंदर मिसिर के संगे ई अन्याय पहिलहूँ भोजपुरी के सभे इतिहास लिखे वाला लोग कइले बा आ हलिए प्रकाशित डॉ सुनील कुमार पाठक जी के किताबि ‘ छवि और छाप’ तक ई अन्याय रुकल नइखे।

ई एगो अजबे इत्तफाक बा कि भोजपुरी के महान आलोचक महेश्वराचार्य जी के लिखल एगो निबंध में उहाँ के लिखले बानी-‘जे महेंदर ना रहितें त भिखारी ठाकुर ना पनपतें। उनकर एक एक कड़ी लेके भिखारी भोजपुरी संगीत रूपक के सृजन कइले बाड़न । भिखारी के रंग कर्मिता, कलाकारिता के मूल बाड़न महेंदर मिसिर जेकर उ कतही नाम नइखन लेले। महेंदर मिसिर भिखारी ठाकुर के रचना गुरु, शैली गुरु बाड़न। लखनऊ से लेके रंगून तक महेंदर मिसिर भोजपुरी के रस माधुरी छींट देले रहलन, उर्वर बना देले रहलन, जवना पर भिखारी ठाकुर पनप गइलन आ जम गइलन।’

अब ई देखल जाव कि हेतना कुल्हि बातिन के हेर के , जुटा के, सहरिया के एह किताबि में परोसे वाला डॉ मुन्ना कुमार पाण्डेय ओही डर के शिकार हो गइल बाड़न, जवना के ऊ अपने भूमिका में जोरदार ढंग से उठवले बाड़न। ऊ डर कतना बरियार बा कि उदय नारायण तिवारी से शुरू होत कृष्ण देव उपाध्याय से गुजरत डॉ सुनील कुमार पाठक तक सभे नोनाह भीत लेखा महेंदर मिसिर के नाँव पर भहरा गइल बा। अइसना में डॉ मुन्ना कुमार पाण्डेय के कुछो ना कहल जा सकेला। ऊ डेराते सही ढेर कुछ कह गइल बाड़न, जवना से असल बात बूझल कठिन नइखे। महेंदर मिसिर के लेके जवना डर के बाति डॉ मुन्ना कुमार पाण्डेय जी उठवलें, पड़तालों ठसक के संगे कइलें बाक़िर खुदो ओहमें चभोरा गइलें। ओह डर से पाण्डेय कपिल जी ठीक ठाक डेराइल बाड़न नाही त ‘फुलसुंघी’ जइसन कृति के कपोल कल्पना ना कहितें। भलही उहाँ कुल्हि चरित्र का संगे ठीक से न्याय नइखे भइल।

कई गो अउर किताबि महेंदर मिसिर पर बा, पंडित जगन्नाथ के ‘पूरबी पुरोधा’ अउर जौहर सफियाबादी के ‘पूरबी के धाह’ का संगे प्रसिद्ध नाटककार रवीन्द्र भारती के ‘कंपनी उस्ताद’ नाँव से, साहित्य अकादमी से प्रकाशित भगवती प्रसाद द्विवेदी के लिखल ‘भारतीय साहित्य के निर्माता ‘महेंदर मिसिर’ जरूर बा। ढेर लोग लिखलहूँ बा, बाक़िर लोग मूल मुद्दा से किनारा क गइल बा भा डर के असर ओहिंजों काम कइले बा। नाही त आजु जे लोग भिखारी ठाकुर के भोजपुरी के पर्याय मान रहल बा, ऊ लोग अइसन ना क पाइत। अगर महेंदर मिसिर के मूल्यांकन न्याय का संगे भइल रहित भा एकेडमिक रूप से सविकारल गइल रहित त उनुको पर शोध त भइले रहित आ महेंदर मिसिर के भोजपुरी साहित्य में अछूत न मानल जाइत।

सर्वभाषा ट्रस्ट से जवन ई संवर्धित संस्करण ‘महेंदर मिसिर’ उपन्यास के आइल बा, ऊ एक बेर जरूर हलचल पैदा करे में सफल होत देखात बा।जवना के बारे में अपना प्रकाशकीय में केशव मोहन पाण्डेय एह एतिहासिक उपन्यास ‘महेंदर मिसिर’ आ लिखनिहार श्रधेय पं रामनाथ पाण्डेय जी ला कहले बानी -‘इतिहास के एगो तोपाइल आ सबसे चमकदार पन्ना पर पड़ल धूरा के बड़ा आदर से झार झार के साहित्य आ समाज के सोझा ले आइल बानी।’ ई हलचल ऊंच लहर बनि के महेंदर मिसिर के उचित स्थान दियावे में सफल होखे, ई हमार मनोकामना बा। अतने भर ना बलुक एह उपन्यास के सिरजना जवना उमेद से भइल रहे, उहो एक दिन सार्थक होखे, इ भाव हरमेसा मन बनल रही।

नोट: ई लेख जयशंकर प्रसाद द्विवेदी, संपादक- भोजपुरी साहित्य सरिता के लिखल हs

483080cookie-checkमहेंदर मिसिर उपन्यास के बहाने उहाँ के व्यक्तिव पर एगो विमर्श

ईमेल से खबर पावे खातिर सब्सक्राइब करीं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.